९ जेष्ठ २०८१, बुधबार

कविता – समाजवाद ! कुन खाले समाजवाद ?


रामचन्द्र तिम्सिना

“समाजवाद´´

कुन खाले समाजवाद ?

७० करोडको गोकुलवाला समाजवाद कि
५ अर्वको ह्वाईट बडिवाला समाजवाद ?
३३ किलो सुनवाला समाजवाद कि १० अर्वको औषधिवाला समाजवाद ?

अरु पनि छन् समाजवाद,

चोलेन्द्रवाला कि सर्वेन्द्रवाला ?
मनाङ्गेवाला कि कोईरालावाला ?
सामंत गोयलवाला कि यान्छिवाला ?
ट्रम्प-मोदिवाला कि सि-पुटिनवाला ?

खुलस्त होस कुन समाजवाद ?

महाकाली,
कोशी,
गण्डक,
सेती,
अरुण ३
बिप्पा
एमसीसी,
लिपुलेकवाला कि अयोध्यावाला ?

अरु पनि छन समाजवाद ,

चेपाङ बस्तिवाला कि मुसहर बस्तिवाला ?
जाजरकोटवाला कि नगरकोटवाला ?
चुनुवाङवाला कि धुम्बराहिवाला ?
पशुपतिवाला कि खुल्ला मञ्चवाला ?

हिजो पनि समाजवाद ,
आज पनि समाजवाद,
भोलि पनि समाजवाद,
समाजवादै समाजवाद,
नारामा समाजवाद,
घोषणामा समाजवाद,
भाषणमा समाजवाद,

कुन समाजवाद ?

भण्डारिवाला कि निर्मलावाला ?
राजु सदावाला कि नवराज बिकवाला ?
मार्सी,
यति,
ओम्निवाला कि सैलुङ्ग, पप्पुवाला ?

खुलस्त होस,

डनवाला समजवाद कि गनवाला समाजवाद ?
लम्पसारवाला समाजवाद कि मगन्तेवाला समाजवाद ?
रित्ते समाजवाद कि गिद्दे समाजवाद ?

बिर्सेको छैन

अरु पनि छन समाजवाद,
रेल बिभागवाला समाजवाद कि पानीजहाज बिभागवाला समाजवाद ?
पुँजिवाला समाजवाद कि सर्वहारावाला समाजवाद ?

आतुर छन यी कान,
स्पस्ट धारणा सुन्न,

बालुवाटारवाला समाजवाद कि खुमलटारवाला समाजवाद ?
कार्पेटवाला समाजवाद कि कात्रोवाला समाजवाद ?
लत्रे समाजवाद कि अलपत्रे समाजवाद ?

रामचन्द्र तिम्सिना
(आवाज)


यो समाचार पढेर तपाईको प्रतिक्रिया के छ ?

प्रतिक्रिया दिनुहोस !